Snap-E Cabs

Snap-E Cabs ने जुटाए करीब ₹20 करोड़, जानिए क्या है ये EV Startupकंपनी और उसका आगे का प्लान

EV कंपनी स्नैपकैब्स (Snap-E Cabs) ने प्रीसीरीज ए राउंड में 2.5 मिलियन डॉलर का निवेश प्राप्त किया है। इस निवेश से Snap-E Cabs कंपनी अपने विस्तार और उनके उत्कृष्ट सेवा को बेहतर बनाने के लिए अधिक संसाधन प्राप्त कर सकते हैं। यह भविष्य में कंपनी के व्यापार के लिए एक महत्वपूर्ण कदम हो सकता है।

Snap-E Cabs
Snap-E-Cabs

Snap-E Cabs के बारे में:

कोलकाता स्थितEV स्टार्टअप कंपनी स्नैपई कैब्स (Snap-E Cabs) ने इन्फ्लेक्शन प्वाइंट वेंचर्स के नेतृत्व में प्रीसीरीज ए राउंड में 2.5 मिलियन डॉलर की उच्च कोटि के start-up funding जुटाई है। यह निवेश उनके विकास, तकनीकी अपग्रेडेशन, और अतिरिक्त भौगोलिक क्षेत्रों में कंपनी का विस्तार करने की योजनाओं का समर्थन करेगा।

यह भी पढ़ें: ‘Hyundai India IPO’: Hyundai कंपनी बाजार में होगी लिस्ट, LIC के बाद दूसरा सबसे बड़ा IPO, ₹25,000 करोड़ तक जुटाएगी

स्नैपई कैब्स (Snap-E Cabs) इस पैसे का उपयोग कंपनी की प्रतिभा बढ़ने के लिए करेगा। साथ ही कंपनी की सेवाओं को और बेहतर बनाने में इससे मदद करेगा। यह निवेश (Snap-E Cabs) कंपनी के उद्दीष्ट को प्राप्त करने में महत्वपूर्ण कदम है और उन्हें उनके व्यापार को आगे बढ़ाने का एक और मौका प्रदान करेगा।

Snap-E Cabs
Snap-E-Cabs

Snap-E Cabs का काम: 

स्नैपई कैब्स (Snap-E Cabs), जो अब कोलकाता में 600 ईवी के साथ काम कर रहे हैं। कंपनी अपने गाड़ियों के व्यापार के बेड़े का विस्तार करने की योजना बना रहे हैं। और वित्त वर्ष 2024 के अंत तक 300 से 400 ईवी जोड़कर इसे मजबूत करना चाहते हैं।

यह भी पढ़ें: Tata Curvv in Bharat Mobility Expo 2024: टाटा ने पेश की कूपे एसयूवी Tata Curvv, शानदार लुक, जानें एडवांस्ड फीचर्स

इसके बाद, वित्त वर्ष 2025 के लिए, कंपनी ने 1,500 से 2,000 ईवी जोड़कर अपनी सेवाओं का विस्तार करने का लक्ष्य रखा है। और Snap-E Cabs कंपनी ने 2-3 और शहरों में पहुँच बढ़ाने की योजना बनाई है।

यह भी पढ़ें: ‘Revolt RV400 BRZ’: Revolt की मोटर साईकिल आ गयी बाजार में: कीमत सिर्फ 1.38 से शुरू!

स्नैपई कैब्स (Snap-E Cabs) के संस्थापक और सीईओ मयंक बिंदल (Mayank Bindal) ने इस परिवर्तन को महत्वपूर्ण मानते हुए कहा कि भारत का इलेक्ट्रिक वाहनों (electric vehicle) में परिवर्तन वैश्विक तेल (crude oil) बाजारों को ही नहीं प्रभावित करता है, बल्कि यह देश को विश्व के ईवी बाजार में महत्वपूर्ण खिलाड़ी बनाता है। और ऑटो सेक्टर के विशेषज्ञ ऐसा मानते है की यह एक महत्वपूर्ण कदम है, जो सतत विकास की दिशा में भारत को आगे बढ़ाने में मदद करेगा।

Snap-E Cabs
Snap-E-Cabs

शून्यउत्सर्ज (Net zero emissions): 


हाल ही में, ईवी बेड़े ऑपरेटर ने भारतीय हवाई अड्डा प्राधिकरण (Airports Authority of India) (AAI) के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए हैंजिसके अनुसार वे देश भर के किसी भी हवाई अड्डे पर परिचालन शुरू कर सकते हैं। इन्फ्लेक्शन प्वाइंट वेंचर्स के प्रबंध निदेशक राहुल वाघ (Rahul Wagh) ने इस महत्वपूर्ण कदम को संज्ञान में लेते हुए कहा कि कार्बोनाइजिंग परिवहन पर वैश्विक फोकस तेज हो गया है।

यह भी पढ़ें: ‘Ather Ritza’: जल्द ही आएगी बाजार में, 2024 का Look और Style देखके झूम जायेंगे आप!

सरकारें शून्यउत्सर्जन (Net zero emissions) ईवी के पक्ष में आंतरिक दहन इंजन (आईसीई) को समाप्त करने की नीतियों को बढ़ावा दे रही हैं। भारत सरकार (Government of India) भी ईमोबिलिटी के लिए माहौल को अनुकूल बनाने के लिए कदम उठा रही है।

यह भी पढ़ें: Organic Battery: 2024 Electric Vehicle के लिए नई कोबाल्ट मुक्त Organic Battery; जाने कौन सी Car Production कंपनी ने लिया लाइसेंस

इसके साथ ही, इन्फ्लेक्शन प्वॉइंट वेंचर्स ने अब तक 200 से अधिक सौदों में 650 करोड़ रुपये से अधिक का निवेश किया है, जो कि उनकी प्रगति को दर्शाता है।

अगर आप स्नैपई कैब्स (Snap-E Cabs) के बारे में अधिक जानकारी लेना चाहतें है तो आप https://snapecabs.com/ इस वेबसाइट पर जाकर ले सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *